Tuesday, 26 February 2013

'आज'

अंधकार की चुप्पी को ओढ़कर
शांत है एक साया !
कुछ वक़्त अब वो 
समय के आधीन नहीं है 
संतोष की हल्की  सी मुस्कान
उसके चहेरे को
और भी सुन्दर बना रही है !
               अपना सारा समय 
               दूसरों पर खर्च करके भी 
               खुश है वो,
               और निश्चिंत  भी !
उसे पता नहीं है 
आनेवाला कल कैसा होगा
वो तो बस ''आज ''में जी रही है। 
इसी आज में वो खुश है
यही उसकी ज़िन्दगी है !

Post a Comment