Thursday, 8 November 2012

'एक मौका'

खुद को एक नए रूप में पाने के इंतज़ार में हूँ मै  !
किसी अच्छे मौके की तलाश में हूँ मै  !
      आफत के गहरे साए  से निकलने के लिए  ,
      अपनेआप को सबसे बेहतर पेश करने के लिए  ,
      सबकी नजर में खुद को कुछ ऊँचा उठाने की कोशिश में 
      किसी अच्छे मौके की तलाश में हूँ मै  !
जानकर भी अनजान बनती हूँ मै  ,
खुद अपनी बुराइओं को जानती हूँ मै  ,
और फिर भी सबसे प्रशंसा सुननेकी ख्वाइश में ,
किसी अच्छे मौके की तलाश में हूँ  मै  !
       हर वक़्त अपनेआप में रहती हूँ  मै ,
       अपनी बुराइओं को पालती  पोसती  हूँ  मै ,
       उनकी आदत  से मजबूर हूँ फिर भी 
        उनसे पीछा छुड़ाते -
        किसी अच्छे मौके की तलाश में हूँ  मै  !
कभी कभी जब खुद को सहे नहीं पाती हूँ ,
खुद अपनी ही नज़रों में जब मै  गिर जाती हूँ 
तभी अपनेआप ही कोई सजा पाने के फिराक में 
किसी अच्छे मौके की तलाश में हूँ  मै  !
खुद को ही एक नए रूप में पाने के इंतज़ार में ------!!!

Post a Comment